कुआं खोदते टूटी क्रेन, तीन श्रमिकों की मौत

कुआं खोदते टूटी क्रेन, तीन श्रमिकों की मौत

करेड़ा. कुआ खुदाई के लिए महाराष्ट्र गए क्षेत्र के तीन युवक मंगलवार रात हादसे का शिकार हो गए। खुदाई के बाद कुएं से निकलते समय क्रेन टूट गई और तीनों युवकों की मौत हो गई। तीनों के शव गुरुवार सुबह उनके गांव पहुंचे तो कोहराम मच गया। दो युवक एक गांव व तीसरा दूसरे गांव का था। एक का शव लेने से परिजनों और ग्रामीणों ने इनकार कर दिया। मुआवजे की मांग पर प्रदर्शन किया। इससे माहौल गरमा गया। पुलिस व प्रशासन की छह घण्टे की समझाइश के बाद परिजन शव उठाने को राजी हुए। घटना से गांव में शोक है। शाम को घरों में चूल्हे नहीं जले।

क्षेत्र के लक्ष्मीपुरा निवासी धर्मराज गुर्जर (२३) व धन्नासिंह रावत (४०) तथा पीपलिया का नारायणसिंह (२४) महाराष्ट्र के नासिक जिले के माले गांव में मजदूरी को गए थे। मंगलवार रात तीनों कुएं की खुदाई पूरी कर क्रेन से बाहर निकल रहे थे कि अचानक क्रेन टूट गई। ऊंचाई से गिरने से तीनों की मौत हो गई। इसकी सूचना पर बुधवार से गांववाले गमजदा थे। ठेकेदार गुरुवार सुबह उनके शव लेकर गांव पहुंचा तो परिजनों के आंसूओं का सैलाब उमड़ पड़ा। नारायण और धर्मराज का अंतिम संस्कार किया गया जबकि धन्नासिंह के परिजनों व रिश्तेदारों ने शव लेने से इनकार कर दिया। मुआवजा मांगा व प्रदर्शन किया। तहसीलदार नरेन्द्रसिंह व करेड़ा थानाप्रभारी बिहारीलाल पहुंचे और समझाइश की।
पांच बेटियों का परिवार, इकलौता कमाऊ

पुलिस के अनुसार धन्नासिंह के पांच बेटियां है। परिवार में इकलौता कमाने वाला था। बारह साल से महाराष्ट्र में कुआ खुदाई का काम कर रहा था। एक माह पूर्व ही तीनों मजदूरी के लिए गए थे। नारायण व धर्मराज पहली बार कुआ खुदाई के लिए महाराष्ट्र गए थे।