किस लिए मनाया मातम, ताजिये निकाल याद किया शहादत को


मोहर्रम पर विभिन्न स्थानों पर निकाले गए ताजिये
चित्तौडग़ढ़.हसन-हुसैैन की शहादत की याद में मुस्लिम धर्वालम्बियों द्वारा मोहर्रम के मौके पर ताजिये निकाले गए। जिले में विभिन्न स्थानों पर ताजिये निकाले गए जिनमें बड़ी संख्या में मुस्लिम धर्मावलम्बी शामिल हुए। शहर में सुबह तीन स्थानों लौहार मोहल्ला, सिपाही मोहल्ला एवं दुर्ग से ताजिये निकाले गए। ताजियों में लोग हसन-हुसैन की शहादत को याद करते हुए मातम मनाते हुए चल रहे थे। तीनों स्थानों से निकाले गए ताजिये अलग-अलग मार्गो से होते हुए अपराह्न गांधी चौक में एकत्रित हुए। यहां ताजिये देखने के लिए लोगों की भीड़ लग गई। गांधी चौक में एकत्रित हुए जहां उनको सलामी दी गई। ताजिये इसके बाद शाम को गोलप्याऊ पहुंचे तो यहां भी देखने वालों की भीड़ रही। ताजियों के जुलूस में शामिल लोगों के लिए कई जगह पेयजल की व्यवस्था की गई थी। ताजियों को बाद में रात में कर्बला ले जाकर ठंडा किया गया।
कैमरों में कैद करने की होड़
गांधी चौक में तीनों अलग-अलग स्थान से आए ताजिये एक साथ हुए तो इस दृश्य को कैमरे में कैद करने के लिए होड लग गई। लोग मोबाइल कैमरों में इस दृ़श्य को कैद करने या रिकॉर्डिग करने की होड में लग गए।
सुरक्षा के कड़े प्रबन्ध
ताजिये निकालने के दौरान मार्ग में सुरक्षा के कड़े प्रबन्ध रहे। गांधी चौक में ताजियो के ठहराव के दौरान बड़ी संख्या में पुलिस बल भी तैनात रहा। गोलप्याऊ स्थित पुलिस नियंत्रण कक्ष में मौजूद रहकर भी अधिकारी व्यवस्थाओं का जायजा लेते रहे।