किसके मन में रह गई माता के दर्शनों की अभिलाषा


चित्तौडग़ढ/भदेसर. नाथद्वारा से आसावरा माता के दर्शन करने जा रही यात्रियों की बस असंतुलित होकर पलट जाने से पचास से अधिक यात्री घायल हो गए। इनमें से ३१ घायलों को चित्तौडग़ढ़ जिला अस्पताल में रैफर किया गया। चित्तौडग़ढ़-बड़ीसादड़ी सड़क मार्ग पर गुरुवार दोपहर आसावरा की ढाणी गांव के पास यात्रियों से भरी एक निजी बस राजीव गांधी सेवा केन्द्र के पास असंतुलित होकर पलट गई। बस में सवार 50 से ज्यादा यात्री घायल हो गए। यात्रियों का भदेसर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में प्राथमिक उपचार करने के बाद ३१ घायलों को चित्तौडग़ढ़ के सांवलियाजी जिला चिकित्सालय में रेफर किया गया। दुर्घटना स्थल परमदद के लिए बडी संख्या में ग्रामवासी मौके पर पहुंचे और घायलों को भदेसर अस्पताल पहुंचाया।
नवरात्र के समापन के बाद नई हवेली नाथद्वारा से तीन निजी बसों में सवार होकर श्रद्धालु चित्तौडग़ढ़ किले व भदेसर भैरूजी के दर्शन कर गुरूवार अपरान्ह बाद आसावरा माताजी दर्शन के लिए जा रहे थे कि आसावरा माता से करीब एक किमी पहले राजीव गांधी सेवा केन्द्र से पूर्व चालक ने बस पर नियंत्रण खो दिया तथा बस सड़क से नीचे उतर कर पलट गई। अचानक हुए हादसे से बस सवार घायल यात्रियों की चीख पुकार सुन कर आसावरा की ढाणी के ग्रामीण बडी संख्या में सहायता के लिए पहुंचे। घायलों को एक-एक करके बस से बाहर निकाला गया एवं तत्काल निजी वाहनों के माध्यम से भदेसर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में पहुंचाया, इसी दौरान भदेसर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। भदेसर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में 50 से ज्यादा घायलों को लाया गया। वहां से चित्तौडग़ढ़ जिला चिकित्साालय में रेफर घायलों के पहुंचते ही उपचार शुरू कर दिया गया। जिला चिकित्सालय में घायलों का हाल जानने के लिए एडीएम प्रशासन मुकेश कलाल, विधायक चन्द्रभानसिंह आक्या, नगर परिषद सभापति संदीप शर्मा, कांग्रेस जिलाध्यक्ष मांगीलाल धाकड़, शहर अध्यक्ष प्रेमप्रकाश मूंदड़ा, भाजपा नगर अध्यक्ष नरेन्द्र पोखरना आदि पहुंचे।

31 जनों को किया चित्तौडग़ढ़ रैफर
दुर्घटना में घायल चंचल धाकड़, कमला सोनी, पुष्पा टेलर, लोकेश शर्मा, मदन त्रिवेदी, चंद्रकांता, भैरुलाल, कमलाबाई, विमला देवी, कौशल्या, हंसल, दुर्गादेवी, खूबीराम, गीरा देवी, ध्रुव वंशल, मंजू देवी, उलासी बाई, महावीर जैन, मधु जैन, टिव्कंल जोशी, बबली शर्मा, राधेश्याम शर्मा, मोहित सनाढ्य, तुलसीराम सोनी, शुभम सनाढ्य, जगदीश, राहुल सोनी, बाबूलाल, सीता देवी, शुभम शर्मा सभी नाथद्वारा निवासी को चित्तौडग़ढ़ रैफर किया गया। घायलों को जिला अस्पतल में पीएमओ डॉ. दिनेश वैष्णव सहित अन्य डॉक्टर घायलों के इलाज में जुट गए।

बाइक बचाने के चक्कर में हुआ हादसा
पुलिस का कहना है कि घायल यात्रियों से पूछताछ के दौरान बताया कि बाईक चालक को तथा दूसरी तरफ कुत्ते को बचाने के चक्कर में संतुलन खो दिया जिससे यह दुर्घटना हुईं। इस मामले में अब तक किसी ने रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई है।

मदद के लिए उठे हाथ
दुर्घटना की सुचना भदेसर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में मिलते ही सेवानिवृत चिकित्साकर्मी सत्यनारायण भट्ट के अलावा जिनका साप्ताहिक अवकाश होने के बावजूद सभी कार्मिक घायलों के पहुंचने से पहले ही पहुंच गए, घायलों को दो एम्बूलेंस व निजी वाहनों से चित्तौडग़ढ़ पहुंचाया गया, वहीं कस्बे के लोग मौके पर पहुंच कर उन्हें रेफर करने में सहयोग किया।

वापस लौटे शेष दो बसों के यात्री
दुर्घटना से पहले दो बसें जो इन्ही के साथ की थी, आसावरा माताजी पहुंच चुकी थी, बाद में दुर्घटना की सूचना मिलने पर दोनों ही बसें भदेसर लौट आई। दुर्घटना ग्रस्त बस के शेष यात्रीयों को इन दोनों बसों में वापस नाथद्वारा पहुंचाया गया। घायल यात्रियों ने बताया कि आवारीमाता पहुंचकर वहां पर माताजी के दर्शन करने के बाद वहां पर खाना खाकर सांवलियाजी के दर्शन करने जाने वाले थे।

घायलों में बच्चे व महिलाएं भी
बस पलटने से घायल हुए यात्रियों में अधिक घायल बच्चे व महिलाएं है। जिला अस्पताल में रैफर हुए घायलों में कई के हाथ या पैर में फैक्चर होने की शिकायत हुई।