काले सोने की सुरक्षा में किसानो की राते काली, तो खेतों में आशियाने

मेवाड़ किरण @ नीमच -


नोशाद अली @ काला सोना यानी अफीम की तस्करी के लिए माने जाने वाले जिले में इन दिनों खेतों में लहलहा रही बहुमूल्य अफीम की फसल पर सफेद फूल आने का दौर शुरू हो गया इससे अफीम उत्पादक किसानों में हर्ष छाया हुआ है। फूल खिलने के बाद इस पर डोडा निकलेगा जिस पर किसान आने वाले कुछ दिनों में विधि विधान से मां काली की पूजा अर्चना कर डोडे पर चीरा लगाकर अफीम का दूध संग्रहित करने में जुट जायेंगे। इस फसल को बचाने के लिए किसान इन दिनों खेत में रातजगा कर रहे हैं यह किसी मन्नत या शौक के लिए नहीं बल्कि इस फसल की जंगली जानवरों से रखवाली के लिए कर रहे हैं। ऐसे में ठंड की सर्द रात में किसान इस बहुमूल्य फसल को बचाने में लगे हुए हैं। जिससे उनके द्वारा की गई खून- पसीने की मेहनत का अच्छा फल मिल सके। किसानों ने मवेशियों से फसल की सुरक्षा के लिए खेतों के चारों ओर तारबंदी, लोहे की जालियां लगा दी है। प्राकृतिक प्रकोप से बचाव के लिए अफीम की फसल के चारों तरफ मक्का एवं अन्य की बुवाई करते है। इसमें खेत के ऊपर सुरक्षा के लिए नायलोन की जाली लगाई है। वहीं साडिय़ों और कपड़ों की दीवार भी बना दी है। कई किसानों ने अपने खेतों पर ही डेरा डाल दिया है। जिससे पक्षियों से डोडों की सुरक्षा हो सके।
जिला मुख्यालय के अंतर्गत जावद तहसील समीप अठाना के अफीम किसान कमलेश धाकड़ एवं जगन्नाथ धाकड़ ने बताया कि रात-दिन फसल की सुरक्षा मे लगे है प्राकृतिक प्रकोप, मवेशियों, पक्षियों से इसकी सुरक्षा की जा रही है इससे कई किसानों ने तो अपने खेतों पर झौंपडिय़ा बना ली है वहां रहकर दिन रात रखवाली कर रहे हैं। कोई किसान फसल को नीलगायों से बचाने के लिए टेप रिकॉर्डर की तेज आवाज कर, तो कोई किसान पटाखे छोड़ कर नील गायों को पक्षियों से इस बहुमूल्य फसल को बचाने का जतन कर रहे हैं वहीं कई किसान नीलगायों के उत्पात व नुकसान से फसल को बचाने के लिए खेत के चारो और साड़ियां लपेट रहे हैं, तो कोई किसान ऑडियो-वीडियो की रील तो कई किसानों ने अपने खेत के चारों ओर लोहे के तार से तार बंदी कर फसल को बचाने का जतन कर रहे हैं अभी क्षेत्र में अफीम की फसल लहलहा रही इससे किसानों में खुशी छाई हुई है। बता दे कि नीमच-मंदसौर जिले पूरे देश में काले सोने की तस्करी के लिए जाने जाते हैं यहां मौसम की अनुकूलता एवं अच्छी पैदावार के चलते अफीम की फसल का अच्छा उत्पादन होता है ऐसे में इसकी तस्करी का अवैध कारोबार भी शुरू हो जाएगा इस वर्ष अफीम की फसल की अच्छी पैदावार होने की आस लगाए बैठे मारवाड़, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, गुजरात व महाराष्ट्र के तस्कर स्थानीय तस्करों से इसके अवैध तस्करी के लिए संपर्क साधने में लगते दिख रहे हैं और लुवाई-चिरई का दौर शुरू होने के बाद तस्कर काला सोना यानी अफीम का अवैध रूप से परिवहन कर अपने क्षेत्र में ले जाएंगे।

Source : Apna Neemuch