कार्यकर्ता के साथ मारपीट करने वाले आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की


मंदसौर.
आशा, उषा सहयोगिनी कार्यकर्ता संगठन ने एसपी के नाम ज्ञापन बुधवार को अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनोकामना प्रसाद को एसपी कार्यालय पहुंचकर सौंपा। विगत दिनों आशा कार्यकर्ता के साथ मारपीट करने आरोपियों को गिरफ्तार किया जाए एवं सुवासरा पुलिस को जानकारी देने के बाद भी कार्रवाई नहीं करने की बात कही।

संगठन के जिला संरक्षक श्याम सोनावत ने बताया कि एसपी को ज्ञापन देकर मांग की है कि 7 सितंबर को सरकार के आदेश के अनुसार ग्राम बरडिय़ा में सीतामऊ ब्लॉक की आशा कार्यकर्ता सुमित्राबाई मेहर अपना सर्वे का कार्य कर रही थी। तब भगवानलाल और उनके दो पुत्र प्रकाश और मोहनलाल तीनों निवासी बर्डिया ने वहां पर आशा कार्यकर्ता सुमित्राबाई के साथ जबरन झगड़ा और लाठियों से मारपीट की। इस दौरान उनके पति राधेश्याम मेहर जब बचाव करने गए तो तीनों आरोपियों ने भी उसके साथ मारपीट की। वर्तमान में आशा कार्यकर्ता सुमित्राबाई को गंभीर चोटे आने पर उन्हें जिला चिकित्सालय भर्ती किया।

जहां उनकी रीढ़ की हड्डी में गंभीर चोट आई है। साथ ही मारपीट के दौरान आशा कार्यकर्ता का सोने का मंगल सूत्र भी गुम हो गया। इस मामले में राधेश्याम मेहर रिपोर्ट दर्ज कराने गए तो वहां पर रिपोर्ट सही नहीं लिखी गई। रिपोर्ट में आशा कार्यकर्ता के साथ हुई मारपीट का उल्लेख भी नहीं किया गया।

आशा कार्यकर्ता सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार सर्वे का कार्य करती है, लेकिन आरोपियों द्वारा की गई मारपीट से सभी आशा कार्यकर्ताओं में डर एवं रोष व्याप्त है। ज्ञापन में मांग की कि तीनों आरोपियों को पकड़कर उनके विरूद्ध कार्रवाई की जाए। आशा कार्यकर्ता सुमित्राबाई पर हुई मारपीट पर भी प्रकरण दर्ज किया जाए तथा सुवासरा पुलिस को उचित कार्रवाई करने के लिए निर्देश दिए जाने की कृपा करें। ज्ञापन का वाचन आशा सहयोगिनी स्नेहलता कारपेंटर ने किया। इस अवसर पर संगठन जिलाध्यक्ष साधना सेन, जिला उपाध्यक्ष कविता हलकार, जिला सचिव शोभा पाटीदार, जिला कोषाध्यक्ष माया सोनावत, शकुंतला भाटी, उषा दमामी, मंजूबाला सांखला, ललीता राठौर, कोमल जैन, शीला यादव सहित अन्य कार्यकर्ता मौजूद थी।