काम में खामियों को देखकर उखड़े सीआरएस


चित्तौडग़ढ़. जिले में रेलवे ट्रेक दोहरीकरण व विद्युतीकरण के कार्यों के लगभग पूरा होने पर निरीक्षण के लिए सोमवार को रेलवे संरक्षा आयुक्त (सीआरएस) सुशील चंद्रा यहां पहुंचे। निरीक्षण के दौरान कार्यों में कई खामियों को लेकर अधिकारियों को फटकार भी लगाई गई। जिले में रेलवे ट्रेक विद्युतिकरण कार्य अंतिम दौर में चल रहा है। अजमेर-उदयपुर मार्ग पर जल्द यात्रियों को विद्युतिकृत रेल सेवाएं मिल सके इसके लिए सीआरएस स्पेशल वाहन से सुबह करीब नौ बजे चित्तौडग़ढ़ स्टेशन पहुंचे। यहंा पर सीआरएस चंद्रा ने विद्युतिकरण के दौरान किए गए कार्यों का बारिकी से निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान जहां काम में कमियां पाई उसको सुधारने के निर्देश देने के साथ ही अधिकारियों की फटकार भी लगाते रहे। उन्होंने अधिकारियों को हिदायत देते हुए कहा कि रेलवे के कार्यों में किसी भी लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। रेलवे की टिकट खिड़की के बाहर कर्मचारियों की जानकारी नहीं होने पर भी उन्होने नाराजगी जताई। निरीक्षण के दौरान डीआरएम आरएन सुनकर सहित कई अधिकारी मौजूद थे। निरीक्षण के दौरान सभी अधिकारी चंदेरिया स्टेशन पहुंचे जहां से उदयपुर के लिए रवाना हुए। चन्द्रा मंगलवार को भी चित्तौडग़ढ़ प्रवास पर रहकर रेलवे के कार्यों का निरीक्षण कर उनकी समीक्षा करेंगे। निरीक्षण के दौरान सीआरएस ने एक अर्थिंग के बारे में पूछा की यह किसके के लिए बनाया है।किसी का जवाब नहीं मिलने पर उन्होंने कहा कि यह हमने किसी पाकिस्तान वाले के लिए बनाया होगा। इस दौरान अर्थिंग सिस्टम में पानी को लेकर भी अधिकारियों को पटकार लगाई। निरीक्षण के दौरान विद्युत पोल को भी ट्र्रेक से चार इंच और दूर करने के निर्देश दिए।