ऐसी कैसी है योजना, बन गया पूरा आवास, नहीं मिली एक भी किश्त

उदयपुर/ लसाडिय़ा. प्रधानमंत्री आवास योजना की भुगतान राशि में गड़बड़झाले का मामला सामने आया है। आवेदक व लाभार्थी का आरोप है कि पंचायत के निर्देश पर उसने पूरा मकान खड़ा दिया, लेकिन वर्ष 2016-17 में स्वीकृत आवास के नाम पर उसे एक किश्त भी नसीब नहीं हुई। उसका आरोप है पंचायत में सक्रिय कुछ लोगों ने उसके खाते में आई राशि निकाल ली है। दूसरी ओर ग्राम पंचायत सरपंच की ओर से कुछ अलग ही दलीलें दी जा रही हैं। ऐसे में आवास योजना को लेकर कई सवाल खड़े हो रहे हैं।
जानकारी के अनुसार लसाडिय़ा उपखण्ड की भरेव पंचायत निवासी केशा पुत्र भगा मीणा को करीब तीन साल पहले प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत निर्माण की स्वीकृति मिली थी। केशा ने बाजार से कर्ज लेकर आवास निर्माण कार्य पूरा किया। केशा का आरोप है कि उसने इस बारे में पंचायत सरपंच व सचिव प्रभुलाल मीणा को शिकायत की। जवाब में उन्होंने बैंक मित्र प्रकाश मीणा के पास जाने की सलाह दी। आरोप है कि बैंक मित्र ने लाभार्थी से उसका आधार कार्ड व एटीएम कार्ड लेते हुए आगामी 10 दिनों में किश्त का भुगतान करने की बात कही। लेकिन, 2017 से अब तक पंचायत प्रशासन व बैंक मित्र की ओर किसी प्रकार की निर्माण राशि का भुगतान नहीं हुआ। केशा का आरोप है कि उसकी राशि मिलीभगत का शिकार हुई है। उसने मामले में जांच कराने की मांग की है।
खाते में हैं राशि
लाभार्थी की राशि खाते में पड़ी है। प्रधानमंत्री आवास योजना का भुगतान बंद होने के कारण राशि खाते में ट्रांसफर नहीं हुई है। खाता चालू होते ही भुगतान हो जाएगा।
वीरमलाल मीणा, सरपंच, भरेव