एक ही सवाल, पुलिस कब करेगी खुलासा?

एक ही सवाल, पुलिस कब करेगी खुलासा?
प्रमोद शर्मा हत्याकांड: सात दिनों के बाद भी पुलिस खामोश !
पुलिस कई एंगल पर कर रही है जांच
पुलिस को पुख्ता प्रमाण का इंतजार

डूंगरपुर. शहर के प्रमुख व्यवसायी प्रमोद शर्मा हत्याकांड के खुलासे में हो रही देरी से शहरवासियों के जेहन में कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। शहरवासियों की हर जुबां पर एक ही सवाल आ रहा है। आखिर प्रमोद शर्मा की मौत के कारण क्या रहें और पुलिस कब गुत्थी सुलझा रही है। हालांकि मामले को लेकर मंगलवार देर शाम तक पुलिस कोई खुलासा नहीं कर पाई है।
अब तक कई एंगल को खंगाल लिया और कई तरह से इस वारदात की तह तक पहुंचने के प्रयास किए हैं। अब तक पुलिस को भी मृतक की जेब से एक नोट मिला है, जिसमें मृतक प्रमोद शर्मा ने लिखा था कि ‘ मैं लूट गया, बर्बाद हो गया’। हालांकि पुलिस इस नोट को लेकर भी छानबीन कर रही है। एसपी जय यादव के मुताबिक जल्द ही मामले का खुलासा किया जाएगा।
घटना के बाद 48 मिनट तक जीवित रहा था
पड़ताल में सामने आया कि 23 जुलाई को दोपहर 11.30 से 12 बजे के बीच नवाडेरा स्थित प्लांट पर हुए इस मामले के बाद करीब 48 मिनट तक प्रमोद शर्मा जीवित रहा था। इस दौरान प्रमोद शर्मा को अस्पताल भी पहुंचाया और इलाज भी शुरू कर दिया। लेकिन, घांव गहरा होने से डाक्टर उसे बचा नहीं पाए थे।
हत्या या आत्महत्या?
प्रमोद शर्मा की मौत को लेकर पुलिस की जांच दो एंगल से हो रही हैं। पुलिस हत्या से जुड़े सभी तार जोड़ रही हैं। वहीं, दूसरे एंगल के रुप में पुलिस इस पूरे प्रकरण को आत्म हत्या की नजर से भी देख रही है।

यह था मामला
शहर के नवाडेरा मार्ग पर स्थित आरओ प्लांट परिसर में 22 जुलाई को संचालक प्रमोद शर्मा लहूलुहान हालत में मिला था। उसके पेट पर चाकू से गंभीर वार किया हुआ था। इलाज के दौरान उसकी मृत्यु हो गई थी। परिजनों ने अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ चाकू घोंप कर हत्या करने का प्रकरण दर्ज कराया था। लगभग एक सप्ताह बीतने के बावजूद पुलिस अब तक इस गुत्थी को नहीं सुलझा पाई है।