उदयपुर ने तोड़ा रिकॉर्ड, इस मामले में अब तक के सबसे श्रेष्ठ स्तर पर रहा उदयपुर…

उदयपुर . मनरेगा में काम मांगो विशेष अभियान ने उदयपुर में नरेगा श्रमिकों को काम देने का अब तक का रिकार्ड टूट गया। आमतौर पर नरेगा में काम करने वालों की संख्या मई में ज्यादा होती है लेकिन इस अभियान के चलते जनवरी में काम मांगने वालों का आंकड़ा रिकार्ड तोड़ गया है। वैसे प्रदेश में सरकार बदलने के बाद नई सरकार ने काम मांगो विशेष अभियान चलाया तो पंचायतों में काम मांगने वालों की कतारें लग गई। पूर्व में अधिकारियों का तर्क होता था कि काम करने वाले श्रमिक नहीं मिल रहे हैं। दूसरी ओर ग्रामीण क्षेत्र में काम करने की इच्छा रखने वाले कहते थे कि काम मिल नहीं रहा। ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग ने महात्मा गांधी नरेगा योजना के तहत जनवरी में रोजगार की मांग, जॉब कार्ड सत्यापन एवं कार्ड जारी करने को लेकर काम मांगो विशेष अभियान में शिविर लगाए थे।


जनवरी में यों बना रिकॉर्ड
ब्लॉक काम मांगने वाले
झल्लारा 4676
कुराबड़ 1816
लसाडिय़ा 6320
फलासिया 5061
ऋषभदेव 9736
सायरा 6727
सेमारी 6982
कोटड़ा 19235
खेरवाड़ा 14741

गिर्वा 7365
गोगुंदा 5801
झाड़ोल 5452
बडग़ांव 2447
भींडर 38410
मावली 5155
सराड़ा 5442
सलूंबर 3151
कुल 1,48,517

 

READ MORE : महाराणा भूपाल अस्पताल में मरीजों को लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। पढ़िए क्या है यह नई पहल

 

यह है तुलनात्मक स्थिति
जनवरी 1 1,48517
दिसम्बर 18 85387
नवंबर 18 68352
अक्टूबर 18 56882
सितंबर 18 33750
अगस्त 18 54962
जुलाई 18 77626
(आंकड़े पूरे जिले के)

 

इनका कहना है...
जनवरी में इस अभियान के तहत काम मांगने वालों ने अब तक के आंकड़ों को पीछे छोड़ दिया है। पिछले कुछ बरसों से काम मांगने वालों का आंकड़ा जनवरी महीने में ज्यादा रहा। - कमर चौधरी, सीईओ जिला परिषद