इस बार रक्षाबंधन में चार शुभ मुहूर्त

भीलवाड़ा।
Raksha Bandhan अगस्त माह में त्योहारों की धूम रहेगी। शुरुआत हरियाली अमावस से हुई। इस माह के 15 दिन सावन व 15 दिन भाद्रपद के रहेंगे। शनिवार को हरियाली तीज पर सुहागिनों ने व्रत रखा तथा भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा की। घरों में विशेष पकवान बनाए। नवविवाहित महिलाओं के मायके से नए वस्त्र, सुहाग सामग्री, मेहंदी और मिठाई आती है।

https://www.patrika.com/varanasi-news/rakshabandhan-2019-shubh-muhurt-date-tithi-and-story-in-hindi-4868355/

Raksha Bandhan सोमवार को नागपंचमी मनाई जाएगी। ११ अगस्त को पुत्रदा या पवित्र एकादशी भी कहते हैं। इसका व्रत संतान प्राप्ति के लिए किया जाता है। इस दिन पति और पत्नी जोड़े से व्रत रखते हैं। इस्लामी कैलेंडर के १२वें महीने की 10वीं तारीख को कुर्बानी के त्योहार बकरीद मनाया जाता है। १२ अगस्त को बकरीद मनाई जाएगी।

रक्षाबंधन को पहला मुहूर्त सुबह ६.१४ बजे
पण्डित अशोक व्यास ने बताया कि १५ अगस्त को रक्षाबंधन मनाया जाएगा। रक्षा सूत्र बांधने का श्रेष्ठ मुहुर्त सुबह ६.१४ बजे से ७.५१ बजे तक, सुबह ११.०५ से १.०८ बजे, दोपहर ३ से ३.५७ बजे तक तथा शाम ५.३४ से ७.११ बजे तक श्रेष्ठ मुहूर्त रहेगा।

18 को कजली तीज
कजली तीज भाद्रपद की कृष्ण पक्ष की तृतीया तिथि को मनाई जाएगी। इसे सातुड़ी या बड़ी तीज भी कहा जाता है। इस दिन कन्याएं व सुहागन व्रत रख संध्या को नीमड़ी की पूजा करती हैं। कन्याएं सुंदर व सुशील वर तथा सुहागन पति की दीर्घायु की कामना करती हैं। वे तीज माता की कथा सुनती हैं। भाद्रपद के कृष्णपक्ष की चतुर्थी के दिन बहुला चतुर्थी का व्रत रखने का विधान है। इस व्रत को पुत्रवती महिलाएं रखती हैं। सातुड़ी तीज को लेकर सहकार भारती की ओर से बेसन व आटे के सत्तु बनाए जाएंगे। इसकी बुकिंग के लिए २७ स्थान निर्धारित किए है।

24 को जन्माष्टमी
जन्माष्टमी 24 अगस्त को मनाई जाएगी। संकटमोचन हनुमान मंदिर में विशेष झांकी सजाई जाएगी। महंत बाबूगिरी ने बताया कि २४ अगस्त की रात १२ बजे कृष्ण भगवान का जन्मोत्सव मनाया जाएगा। दिन में मंदिर में विशेष शृंगार किया जाएगा। शहर के बाबाधाम, बालाजी मंदिर, लक्ष्मी नारायण, दूदाधारी व अन्य मंदिरों में झांकी सजाई जाएगी।