इमाम हुसैन की शहादत में मातमी धुनौ व या हुसैन के नारों से निकले ताजिये

मेवाड़ किरण @ नीमच -

अपना कुकड़ेश्वर @ मनोज खाबिया
पैगंबर मोहम्मद साहब के नवासे इमाम हुसैन एवं उनके साथियों की शहादत की याद में मुहर्रम का पर्व मनाया गया 10 सितंबर को मातम की रात के पश्चात 11 सितंबर को इमामबाड़ा से मातमी धुनों व ढोल धमाकों बैंड बाजों की धुन पर ताजियों का कारवां निकला जिसमें अंजुमन कमेटी कुकड़ेश्वर द्वारा 12 फीट ऊंचाई वाला ताजिया बनाया गया एवं एक ताजिया बुकरात के प्रतीक का हिम्मत भाई रंगरेज मिस्टी द्वारा मन्नत का निकाला गया जामा मस्जिद पर सभी रस्में अदा कर इमामबाड़ा से हजरत इमाम हुसैन सहादत में शहीदाने करबला 12 बजे चालू हुआ जो इमामबाड़ा से तमोली चौक, नीम चौक, पटवा चौक, मुखर्जी चौक मस्जिद के यहा 6:30 बजे करीब पहुंचा जहां पर 3 घंटे विश्राम व ढोल धमाकों मातमी धुनों पर हुसैनी याद किया गया यहां से मीणा चौक होते हुए ब्राह्मण मोहल्ले से मस्जिद के वल्ला पहुंचा वहां से कर्बला तलाव पाल पहुंचा वहां पर रात्रि 12 बजे बाद ताजियों को ठंडा किया जाएगा जगह-जगह धर्मावलंबियों के व्दारा स्वागत धूप दीप अगरबत्ती नारियल चढ़ाकर हिंदू मुस्लिम भाइयों ने किया एवं जगह-जगह स्वागत किया करतब दिखाया गया कुकड़ेश्वर में आपसे भाईचारे व सौहार्दपूर्ण वातावरण में ताजिए निकले जिसमें नायब तहसीलदार श्री सूर्यवंशी शर्मा पटवारी पुलिस थाना प्रभारी अनुराधा गिरवाल आदि ने कानून व्यवस्था रखी तो नगर के समाजसेवी मुस्लिम समाज के ताजियों का स्वागत किया नगर में शांतिपूर्ण ढंग से ताजीयो का कारवां निकाला गया।

Source : Apna Neemuch