आने वाली है मकर संक्रांति, शिक्षक चाह रहे दिवाली आ जाए

पंकज वैष्णव . उदयपुर . उदयपुर जिले में बीते तीन चार माह में नियुक्त हुए शिक्षकों को अभी तक वेतन नहीं मिला है। करीब 3-4 माह का वेतन अभी तक बाकी है। यूं कहिए कि दो दिन बाद मकर संक्रांति है और वंचित शिक्षक वेतन मिलने के दिन को दीपावली की तरह उत्साह से मनाने को आतुर है।
जिले के सैकड़ों शिक्षकों को वेतन नहीं मिलने के हालात उस समय सामने आए, जब कुछ शिक्षक नेता प्रशिक्षण शिविरों में पहुंचे। शिविरों में उन्हीं शिक्षकों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। राजस्थान शिक्षक एवं पंचायतीराज कर्मचारी संघ के प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष शेरसिंह चौहान ने भींडर ब्लॉक में केजीबीवी खेरोदा और मावली ब्लॉक के विवेकानंद मॉडल स्कूल में नवनियुक्त शिक्षकों के चल रहे शिक्षक प्रशिक्षण शिविर में शिक्षकों से मिलकर उनकी समस्याएं जानी। शिक्षकों ने बताया कि कई नवनियुक्त शिक्षकों को नियुक्ति के बाद पिछले 3 से 4 माह से एक भी बार वेतन नहीं मिला है। साथ ही मेडिक्लेम पॉलिसी भी आज तक नहीं बन पाई है। साथ ही शिक्षकों ने 2012 व 2013 शिक्षक भर्ती के संशोधित परिणाम के बाद नियुक्त शिक्षकों के संघ की ओर से किए गए संघर्ष के बाद नोशनल परिलाभ के आदेश जारी कराने के लिए धन्यवाद ज्ञापित किया। चौहान ने बताया कि हमारा संघ एनपीएस के स्थान पर पुरानी पेंशन योजना लागू कराने, आवासीय शिक्षक प्रशिक्षण को गैर आवासीय करने, विद्यालय के बढ़े हुए समय को वापस लेने, टी एस पी से नॉन टी एस पी में स्थानांतरण में छूट दिलाने साथ ही उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद भी बहुत सारे शिक्षक शिक्षा एवं अन्य विभाग के कार्यालयों में प्रतिनियुक्ति पर है। उनकी प्रतिनियुक्ति निरस्त कराने व शिक्षा विभाग के कुछ कार्यालयों में व्याप्त भ्रष्टाचार को मिटाने जैसे मुद्दों पर संघ अपना संघर्ष जारी रखेगा। संघ के योगेंद्र सिंह भाटी, तुलसीराम सुथार, मावली ब्लॉक अध्यक्ष देवी लाल जाट, विनोद प्रकाश भारती, ओम किराड़, राकेश शर्मा, पवन कुमार, दीपक कुमार सम्मिलित थे।