अभिभाषक रहेगे कार्य से विरत व एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट लागू करने के लिए देगे ज्ञापन

मेवाड़ किरण @ नीमच -

अपना जावद @ नोशाद अली
मध्यप्रदेश राज्य अधिवक्ता परिषद के काफी प्रयासों के बाद भी मध्यप्रदेश राज्य सरकार के द्वारा एडवोकेट्स प्रोटेक्शन एक्ट नहीं लाया गया है, जिसको लेकर प्रदेश के अधिवक्ताओं के बीच अत्यधिक रोष है। अभिभाषक संघ अध्यक्ष विजय जोशी ने बताया कि कल शुक्रवार को स्टेट बार कौन्सिल जबलपुर के आह्वान पर पुरे मध्यप्रदेश में अभिभाषकगण अपने न्यायालयीन कार्य से विरक्त रहेगे। मन्दसौर में अभिभाषक युवराज की हुई हत्या के विरोध व अभिभाषकों की सुरक्षा हेतु प्रदेश में एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट शीघ्र लागू करने के लिए कल जावद न्यायालय के अभिभाषकगण अपने कार्य से विरत रहकर दोपहर 12 बजकर 30 मिनिट पर अनुविभागीय अधिकारी को प्रदेश मुख्यमंत्री व महामहिम राज्यपाल के नाम का ज्ञापन सौंपेगे जिसमें अभिभाषक के हत्यारों को शीघ्र गिरफ्तार करने को दिया जाएगा। वर्तमान में मंदसौर की घटना बहुत गंभीर है राज्य अधिवक्ता परिषद इसे गंभीरता से ले रही है, हम इस घटना की निंदा करते हैं। राज्य सरकार के द्वारा वकीलों की सुरक्षा में कोई कदम नहीं उठाए गए अधिवक्ता प्रोटक्शन अधिनियम वादा करके भी नहीं लाया गया, इससे पूरे प्रदेश के अधिवक्ता आक्रोशित हैं। कल 11 अक्टूबर शुक्रवार को पूरे प्रदेश के अधिवक्ता न्यायालयीन कार्य से विरत रहकर प्रतिवाद दिवस के रूप मे मनायेंगे। साथ ही एडवोकेट्स प्रोटेक्शन एक्ट बनाने के लिए व इस तरह की घटना भविष्य में ना हो, वकीलों की सुरक्षा के लिए कदम उठाए जाने हेतु एवं घटना में अपराधियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई के लिए मांग करते हुए ज्ञापन देंगे व अपने ज्ञापन में यह भी मांग की जायेगी कि अगर एडवोकेट्स प्रोटेक्शन एक्ट व वकीलों की सुरक्षा की व्यवस्था समुचित रूप से नहीं की गयी तो प्रदेश के अधिवक्ता अनिश्चित काल के लिये न्यायालयीन कार्य से विरत रहकर अपनी मांग को पूरी करवाने के लिये बाध्य रहेंगे।

Source : Apna Neemuch