अब जमीन खरीदने से पहले पता कर सकेंगे लैंड यूज

मेवाड़ किरण@नीमच -

नीमच। टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग (टीएंडसीपी) ने लैंड यूज का ऑनलाइन कर आमजन के लिए सहूलियत पैदा कर दी है। अब आप जमीन खरीदने से पहले लैंड यूज को ऑनलाइन टाउन एंड कंट्री प्लानिंग की वेबसाइट पर अपलोड जीआइएस सर्वे से असानी से जांच पाएंगे। अब पक्षकार यह आसानी से पता लगा सकेंगे कि जमीन का सौदा जो करने जा रहें हैं। वह रहवासी, व्यवसायिक या प्लानिंग एरिया के लिए आरक्षित तो नहीं है।

 

हाल ही में कुछ समय पहले आईटी कंपनी के सर्वें में ये बात सामने आई थी कि मास्टर प्लान वर्ष २००५ के मसौदे में जिन जमीनी पर सड़के प्लान की गई थी, वहां कॉलोनिया विकसित हो चुकी है। ऐसे सर्वाधिक मामले रतलाम, मंदसौर और नीमच में भी सामने आए हैं। जीआइएस सर्वे में शहर की जमीन को कई श्रेणियों में बांटा गया है। फिलहाल यह योजना प्रदेश की मेट्रो सिटी भोपाल, इंदौर, ग्वालियर और जबलपुर सहित कुछ शहनों में शुरू हुई है। जल्द ही यह प्रदेश के सभी शहरो का मैप आसानी से वेबसाइड पर उपलब्ध होगा। अगले सप्ताह तक नीमच का भी डाटा मैप पर अपलोड हो जाएगा।

ऐसे पहचाने लैंड यूज
- रहवासी जमीन का रंग पीला, कमर्शियल जमीनें नीली, पब्लिक व सेमी पब्लिक जमीनों का रंग लाल, मेहरून और गुलाबी नजर आएगा।
- लेक फ्रंट, बॉटनीकल गार्डन, जू लॉजिकल पार्क की जमीनें हल्के और गहरे हरे रंग से दर्शाई गई है।
- ट्रांसपोर्टेशन और सड़कों के प्लानिंग एरिया को हल्के और गहरे काले रंग से दिखाया गया है।
- औद्योगिक क्षेत्र गहरे नारंगी और आईटी पार्क की जमीन हल्के नारंगी रंग से नक्शे पर दर्शाई गई है7
- वर्ष २०३१ तक का प्लानिंग एरिया गुलाबी लाइन वाले बॉक्स से।

 

जीआईएस में ये नया
- नए मास्टर प्लान में शहर जिस दिशा में बढ़ता था, वहां नए रहवासी-व्यावसायिक क्षेत्रों की जमीनें आरक्षित करने तक कार्रवाई सीमित रहती थी।
शहर के २७६४ वर्ग किमी क्षेत्र को जीआइएस सर्वे से परखा जा रहा है। चारों दिशाओं में उद्योग, एनवॉयरमेंट, रहवासी, व्यवसायिक और पर्यावरण गतिविधियों को बढ़ावा देने जमीनें विद्वित होगी।
- वह आइडिया पिछले साल आयोजित हुई टीएंडसीपी की अर्बन डवलपमेंट वर्कशॉप में आई बेंगलूरू के अर्बन एक्सपर्ट रंजीत मैथ्यू ने दिया था।

 

ऐसे सर्च करे जमीन
जमीन की मौजूदा स्थिति जांचने के लिए ई-एमपी टाउन प्लान डॉट जीओवी डॉट इन पर जाकर लैंड यूज ऑप्शन क्लिक करना होगा। विंडो खुलने में जानकारियां सबमिट करने पर जमीन की कुंडली कम्प्यूटर स्क्रीन पर खुल जाएगी।

 

जमीन की वास्तविकता घर बैठे उपलब्ध
टाउन एंड कंट्री विभाग भी डिजीटल की दौड़ में है। हैदराबाद की आइटी कंपनी वेबसाइट पर लैंड यूज की संपूर्ण जानकारी ऑनलाइन उपलब्ध करा रही है। नागरिक इसकी सहायता से जमीन की वास्तविक स्थिति का परीक्षण घर बैठे कर सकते है। अभी मंदसौर का डाटा अपलोड हो गया है, अगले सप्ताह तक नीमच जिले की का डाटा भी अपलोड हो जाएगा।
- एमएल वर्मा, उपसंचालक टाउन एंड कंट्री विभाग नीमच।