अपनी पसंद का नेता चुनना है तो करे मत का प्रयोग

भारत विकास परिषद के सहयोग से आयोजित हुई बैठक
मतदाताओं को मतदान के लिए प्रेरित करने का लिया संकल्प
चार विधानसभाओं में २४० लोगों ने बैठक में भाग लिया
चित्तौडग़ढ़. लोकसभा चुनाव के ऐलान के बाद चुनावी सरगर्मी तेज हो गई है। राजनीति में स्वच्छ छवि के लोगों को लाने और आगे बढ़ाने क उद्देश्य से पत्रिका के चेंचमेकर और वॉलटियर भी सक्रिय हो गए है। रविवार को चित्तौडग़ढ़ जिले में चित्तौडग़ढ़, निम्बाहेड़ा, बेगूं, बड़ीसादड़ी विधानसभाओं में बैठक हुई।
भारत विकास परिषद के सहयोग से एक वाटिका में आयोजित बैठक में वक्ताओं ने लोकसभा में उम्मीदवारों के चयन तथा क्षेत्र के मुद्दों पर चर्चा की। वक्ताओं ने कहा कि अपने मत का प्रयोग कर अपनी पसंद का नेता चुन लेना चाहिए नहीं तो दूसरों की पसंद को अपनी पसंद बनानी पड़ेगी। दिनेश कुमार खत्री ने कहा कि छलकपट से परे हटकर चुनाव होना चाहिए। धर्म के नाम पर राजनीति नहीं होना चाहिए। अतुल सिसोदिया ने कहा कि उम्मीदवार अपने दायित्वों का निर्वहन करने वाला होन चाहिए। नवीन कुमार ने कहा कि उम्मीदवार जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरने वाला होना चाहिए। विजयङ्क्षसह मेहता ने कहा कि चुनाव लडऩे वाला प्रत्याशी उस दल से कम से कम तीन साल से जुड़ा होना चाहिए। कैलाश न्याती ने कहा कि उम्मीदवार स्वच्छ छवि का होना चाहिए। सतपालसिंह ने कहा कि विभागों में आपस में समन्वय नहीं होने आम जनता का नुकसान उठाना पड़ता है। कमल जैन ने कहा कि लघु उद्योगों को बढ़ावा मिलना चाहिए। डॉ. महेश सनाढï्य ने कहा कि उम्मीदवार युवा, साफ छवि, स्थानीय प्रत्याशी होना चाहिए। चंद्रप्रकाश खटोड़ ने कहा कि चिकित्सा क्षेत्र में विस्तार होना चाहिए।मेडिकल कॉलेज खुलना चाहिए। शशि सनाढï्य ने कहा महिलाओं को बढ़ावा देना चाहिए। प्रेमलता ने कहा कि सफाई, आवारा पशुओं से निजात मिलनी चाहिए। निर्मलान्याती ने कहा कि खाद्य पदार्थों पर मलावटी खोरी बढ़ती जा रही है। मिलावट खोरों पर लगाम लगनी चाहिए।जैविक खेती को बढ़ावा देना चाहिए। राजेश न्याती ने कहा कि दुर्ग पर विकास होना चाहिए। लिंक रोड जल्द बनना चाहिए जिससे आएदिन लगने वाले जाम से निजात मिल सके। अनिल खटवानी ने कहा कि मतदाताओं को जागरुक होना चाहिए। पर्यटनों को बढ़ावा देना चाहिए। डॉ. चेतन ने कहा कि उम्मीदवार स्थानीय समस्याओं से रुबरु होना चाहिए। ओमप्रकाश जोशी ने कहा कि धर्म के नाम पर राजनीति करने वाला नहीं हो। राजेश कुमार ने कहा कि धन के बहकावे में आकर मतदान नहीं करना चाहिए। बैठक के बाद सभी ने मतदान करने तथा दूसरों को भी मतदान के लिए प्रेरित करने का संकल्प लिया।